Sunday, January 31, 2016

३१ जनवरी २०१६

रुबाई
******
दिल की धड़कन ..मन की मन मन... धमनियाँ हैं तर
देख चलती जिंदगानी और ...........उसका हर असर
अपने भीतर और बाहर.. .........जिंदगी जिंदा सबक़
व्यर्थ के प्रवचन सभी सब ........... और चर्चा बेअसर
- अरुण


Saturday, January 30, 2016

३० जनवरी... हिन्दी २०१६


 1-1-2016
V एक शेर
एक शेर
********
कपड़ों से मै ढका क्या.. कपड़ा ही बन गया
कपड़े ही बन गये.......मेरी पहचान के सहारे
अरुण
एक शेर
********
शब्दों में विश्वास भले दिखता जीवित
प्राणों को संदेह .....दिआ करता कंपन
- अरुण
एक शेर
********
दिल धडकता ख़ून फिरता प्राण चलते हैं
जिंदगी इसके अलावा कुछ नही बस ख़्वाब है
अरुण
एक शेर
********
एक जैसी सरलता हो.....एक जैसी सहजता
फ़र्क़ क्या? गर एक छोटा हो बड़ा हो दूसरा
अरुण
एक शेर
********
ईश का अस्तित्व मानो या न मानो
अपना होना ही....उसी का है सबूत
अरुण
एक शेर
*********
जान है सो जानना ही है महज़,फिर
ज्ञान ज्ञानी का पता क्यों ढूँढते ?
- अरुण
एक शेर
*********
मन न होता, न होती दुनियादारी कभी
अ-मन ही तो... अमन का जरिया खरा
अरुण
एक शेर
*********
माने हुए पर हो रहा जिसका गुज़ारा
सच देखने का कष्ट वह करता नही
अरुण
सच का सच
*************
नदी जबतक.......पूरी की पूरी सूख नही जाती
सारा मैदान............एक का एक नही दिखता
असत्य जबतक.. पूरा का पूरा दिख नही जाता
सच का सच..................प्रकाशित नही होता
अरुण
एक शेर
*********
बुझती नही है चाह.... मन को खींचती केवल
कोई नही अबतक क्षितिज को पकड पाया
अरुण
एक शेर
********
मिलने में नही.. ....होता मज़ा इंतज़ार में
मंजिल पे नही तड़प.....  तड़प रहे राह में
अरुण
एक शेर
*********
प्रसंग में रहना है..... अंग अंग से
सोचता जो..हट जाता....प्रसंग से
अरुण

एक शेर
********
जिसका मोस्ट-ऑर्डिनेरीपन खिल गया
ज़माने के लिए वह इक्स्ट्रॉर्डिनेरी बन गया
अरुण
एक शेर
********
अकेलापन और एकांत
----------------------------
तुम्हारी सोचता और तुम नही....चुबता अकेलापन
ये मै ही मै, अकेलापन नही......एकांत का स्वर है
- अरुण
एक शेर
*********
कोशिशें दूर पकड़ने को निकल जाती हैं
सामने रख्खा कोशिशों को नज़र आता नही
अरुण


एक शेर
*********
जिंदगी इतिहास है भूगोल है सब पाठ हैं इसमें
ये तुमपर है के किस अंदाज से तुम देख पाते हो
अरुण
एक शेर
*********
जाने हुए के ही बदौलत जान पाते हो सभी
जाना न जाए वो कभी........ अज्ञेय जो है
अरुण
एक शेर
*********
जिसकी अपनी जिंदगी... चंद दिनों का हो खेल
वह मन क्या समझ पाए अस्तित्व का सनातनपन
अरुण
एक शेर
********
जान को बेजान करना और बनाना जानकारी
शब्द मन अनुभव- चितर सब काग़ज़ी हैं फूल
- अरुण

एक शेर
********
प्रार्थना करना कोई कोशिश नही है
कोशिशें थकती वहींपर प्रार्थना जागे
अरुण

एक शेर
********
ख़ुद पूछे ख़ुद उत्तर देवे सही गलत ख़ुद आंके
मन ही मन से बोलत... लगता अंदर से कुई झाँके
- अरुण

एक शेर
********
सोचना अपने आप में है बहकना, यारों !
जो है सामने उसे.... दूर कहीं देखना यारों !
अरुण
रुबाई
*******
असलियत सुलझी हुई है ...कल्पना उलझा रही
कल्पना की चतुरता.. दिल की पकड ना आ रही
एक पल जागा हुआ..........तो दूसरा सोया हुआ
अंखमिचौली आदमी की समझ को गुमरा(ह) रही
- अरुण
एक शेर
********
अमन सुकून तो बातें केवल.. दिल का मक्सद और हुआ
इसे बचाओ उसको मारो... मज़हब नही.... माखोल हुआ
- अरुण











Saturday, January 2, 2016

2 January 2016

एक शेर
*******
आँखें खुली हुई हैं............रौशन है रास्ता
फिर भी न कुछ भी देखूँ मन-तमस के सिवा
अरुण
एक शेर
*********
ढेरों किताबें पढ़ लूँ फिर भी न हो समझ
रस सत्य में नही.....बस बखान में जो है
अरुण
एक शेर
********
तेरी कुछ कहूँ , कुछ आकाश की भी कहूँ
शायद ........तुम्हारे पंखों में हौसला जगे
अरुण
एक शेर
********
दवा की खोज है किस काम की यारों
जहाँ बीमार ही सब रोग की जड़ है
अरुण
रुबाई
******
ख़्वाबों के दीप भीतर इक रौशनीसी फैले
इस रौशनी में चलते दुनिया के सारे खेले
करवट बदलती भीतर जबभी कभी हक़ीक़त
कपती है रौशनी....उठते हैं जलजले
अरुण
एक शेर
********
चढ़ाओ फूल माला कुछ भी मिलना है असंभव
चढ़ाओ 'ख़ुद' को फिर हर साँस में उसकी रवानी
अरुण
रुबाई
-------------
दिक्कतें हल नही होतीं कभी पूरी की पूरी
प्यास मिटती ही नही कभी पूरी की पूरी
दिखानेवाले ने तो धरी सामने पूरी तस्वीर
देखनेवाले ने न देखी कभी... पूरी की पूरी
अरुण
एक शेर
********
किसी और ने दिया मुझको मेरा नाम पता
बीज में अपने तलाशूँ तो असल जान सकूँ
अरुण
एक शेर
********
सीखने की प्यास ही जो खींच ले जलस्रोत को
प्यास बिन जो पी रहे....पानी नही... कुछ और ही
अरुण
एक शेर
********
सही हो जाओ फिर हर काम तेरा...शुभ सही होगा
अशुभ हर काम उसका...जो गलत ही रह गया भीतर
अरुण
एक शेर
*********
झूठ के झूठेपन को जो भी  देख सके है पूरा
हर सच की सच्चाई उसमें उतर चुकी है पूरी
अरुण

आज है ३१ दिसम्बर
----------------------
एक शेर
***********
आख़िरी दिन और दिन पहला न जाना जिंदगी का
सिर्फ बदले हैं कैलेंडर....... .....और पन्ने माह के
अरुण
1-1-2016
V एक शेर
एक शेर
********
कपड़ों से मै ढका क्या.. कपड़ा ही बन गया
कपड़े ही बन गये.......मेरी पहचान के सहारे
- अरुण