Friday, June 30, 2017

जून २०१७ की रचनाएँ

मुक्तक
********
मँझधार में बहता जो... जीता है वही
जो किनारे ढूँढता .. भयभीत है
तृप्ति पाकर ठहर जाने की ललक
कायरी मुर्दादिली की... रीत है
-अरुण

मुक्तक
******
जबतक उबाल न आया...पानी भाप न बन पाया
बर्फ़ीला, शीतलतम कुनकुनापन..........सब बेकार
आदमी कितना भी झुके या..........उठ जाए ऊपर
भगवत्ता न जाग पाए अगर... उसका होना बेकार
-अरुण
न भला न बुरा
************
न कुछ बुरा है और
न ही है कुछ भला
क्योंकि एक ही वक्त एक ही साँस
एक ही सर में
एक ही रूपरंग लिए
सबकुछ ढला.... साथ साथ
परंतु बाहर...
सामाजिकता की चौखटपर खडे पहरेदारों ने
उसे अपने मापदंडों से बाँट दिया

कुछ को ‘भला’ कहकर पुकारा
तो कुछ पर ‘बुरे’ का लेबल चिपका दिया
-अरुण
कर्ता-धर्ता
********
घर की छत से होकर बह रही तेज हवा...
सामने मैदान में खड़े पेड़ों को हिलाडुला रही है
घर को लगे कि पेडों का हिलनाडुलना
है उसीका कर्तब

देह की छत... यानि सर..
जहाँसे होकर गुज़र रहा है विचारों का तूफ़ान
और जिसके बलपर हो रहे सारे काम....
देह को लगे कि वही है इन कामों का
कर्ता-धर्ता
-अरुण
तीनों अलग अलग
*****************

तमन्ना.....बेइख्तियार हुई जाती है
मगर बदनाम हुआ जाता है दिल..बेजा

जबभी की....कौम की तारीफ तो बढ़ी इस्मत
ख़ुद की जरासी क्या कर दी....मिली रुसवाई

है यह इल्म कि नापाक इरादे हैं....फिरभी
जी लेता हूँ मै यहाँ.......दुनिया के बदस्तूर

-अरुण

निर्भय छलाँग
***********
भीतर गये बग़ैर......... नही जो दिखता
बाहर की चौकसी न........ काम आती है
डरे डरे का तैरना भी... तो ऊपर ऊपर
सिर्फ निर्भय छलाँग सच को जान पाती है
-अरुण
मनु का भ्रमजाला
**************
भरम के हांथों ने...... है भरम जो फैलाया
भरम की आँखों को वो असल नजर आया
इसीतरह से बनी है..... मनु की दुनिया यह
खुदा की नगरी है और मनु का भ्रमजाला
-अरुण

मुक्तक
*******
पल पल जानते रहना....
यानि आँख-कान-गंध-स्वाद और स्पर्श की
संवेदनापर बहते रहना ही
जीवन के मुख्यप्रवाह को जानते रहना है

किसी निष्कर्ष, सिद्धांत या
संकल्पना की गाँठ से
संवेदनाओं को कसकर उन्हें समझना....
घाट पर बैठे बैठे नदी के प्रवाह में
तैरने की कोशिश करने जैसा है
-अरुण

मुक्तक
******
एक पकड़ो तो........ दूसरा छूट जाता है
छूटा वही बेहतर था....... ख़्याल आता है
खुलते तो खुलते हज़ारों रास्ते साथ साथ
चुनने की परेशानी में ही चलना रुक जाता है
-अरुण

मुक्तक
*******
प्रभु है और वहींपर है............. प्रभु का प्यारा भी
सिर्फ आसमां खड़ा है बीच......काले घने बादल हैं
ह्रदय की आँखों को बादलों की अड़चन कहाँ ?
तर्कवाले ही खोजते रहें क्योंकि... आँखों से घायल हैं
-अरुण
मुक्तक
*******
ह्रदय-तल से हार जिसने मान ली
उसमें ‘उसको’ जीत सकने की वजह
अपनी ताक़त का जरासा भी भरोसा
'उससे’ कोसो दूर रहने की वजह
-अरुण

बिगड़ी हुई दृष्टि
***************
देखने का यंत्र यदि
गलत ढंग से पकडा जाए
सही आँखों को भी जो दिखेगा
गलत दिखेगा

समाज के लिए जो तरीक़ा ठीक हो
समाज उसी तरीके से बालक के मस्तिष्क में
देखने की आदत बो देता है
और तब से ही आदमी की
आँखों को जो भी दिख रहा है
गलत ही दिखता रहा है

जीवनपर मुक्त एवं स्पष्ट चिंतन ही
इस बिगड़ी हुई दृष्टि को पुन: ठीक करने की
संभावना रखता है
ऐसा चिंतन अनायास ही फलता है
किसी अभ्यास या प्रयास से नही
-अरुण
मूलभाव
**********
“तुम उस कुम्हार के बर्तन हो
मै इस कुम्हार की रचना
तुम उसके चाक पे ढल आये
मै इसके चाक की घटना
तुम भी मिट्टी मै भी मिट्टी
एकही भूमि अपनी”

ऐसे मूलभाववाले बर्तन
पता नही कैसे?.. बादमें
अपना पात्रता-धर्म छोड़कर
शत्रुता-धर्म अपनाते हैं और
आपस में टकराकर टूट जाते हैं
-अरुण

मुक्तक
******
परम से टूटना ही असल में........ रोग है
उससे छूटने का दु:ख ही तो.......वियोग है
इसी रोग ओ दु:ख को धूमिल करता विषयानंद
परमानंद तो तभी जब...... परम से योग है
-अरुण

मुक्तक
*******
जगत के अस्तित्व में
अपने भिन्नत्व का
हो जिसे आभास
उसे न होता क्षण को भी
सकल जगत एहसास

सकल जगत एहसास ही
साँस सबन की होवे
उसी साँस की धरतीपर
हरकुई निज-स्वर बोवे

जिसके उतरा ध्यान में
यह सत उसका का सार
दुनिया के जंजाल में
वह भव-सागर पार
-अरुण

शायद किसी ने कहा है
*******************
जिधर हो बहाव तेरा
वहीं से बहना
जीवन को अपने स्वभाव से
बहने देना
परम-समाधान के सागर में
पहुँचना है तो
पूरब को चलूँ या पश्चिम को
इस सवाल में मत पड़ना
- अरुण

पाप-निष्पाप
*************
जिसके हाँथों पाप घटना संभव नही
वह साधु है
जिसकी समझ और होश उसे पाप करने नही देती
वह सत्चरित्र है
जो पाप करने से डरे
वह पापभीरु क़िस्म का पापी है
जिसके हाँथों अनजाने में पाप घटता हो  
वह निष्पाप है
अपने को सत्चरित्र कहलाने के लिए जो चुनिंदा आचरण करे
वह ढोंगी है
और जो जानबूझकर पाप कर रहा हो
वह है पाप का सौदागर
-अरुण
कल किसी को कहते सुना कि
*********************
हवा का गुबारा है
हममें से हर कोई

गुबारे की ऊपरी परत को
समझ लेते
हम अपनी अलग पहचान

परत को तोडे बिना ही
जागकर...जान सकता है
हम में से हर कोई कि
यह सब खेल है हवा का

हवा जो केवल हवा है
न तेरी है न मेरी और न ही सबकी
-अरुण

योगिता Vs उपयोगिता
*********************
खोजते ही रहना और
हर वक्त
नये नये सवालों के हाँथ पकड
उनकी गहराई में
खोज को उतारते रहना ही
फ़ितरत है आदमी के
सहज स्वाभाविक प्रज्ञा की

छोटे बालकों द्वारा पूछेजानेवाले
प्रश्नों के माध्यम से
ऐसी जीवंत प्रज्ञा प्रगट होती रहती है

जैसे ही ‘उपयोगिता’ का पहलू
जीवंत प्रज्ञा को छू जाता है
प्रज्ञा गूढ प्रश्नों का सामना करना छोड
मूढ़ सवालों में ही उलझ जाती है

इन मूढ सवालों के हल भले ही
आदमी के जीवन में उपयोगी रहे हों
आदमी अपनी ‘योगिता’ को
(सृष्टि से जुड़ाव)
भूलकर ‘उपयोगिता’ के ही रास्तेपर चल पड़ा है
अब आदमी खुश तो हो जाता है
परंतु समाधानी नही
-अरुण
सूर्यवत प्रकाश ही प्रकाश
******************
आनंद ही आनंद है सिर्फ
कौन है आनंदित  यह पूछना सही नही
क्योंकि आनंद का कोई उपभोक्ता नही

आनंद केवल अवतरण है
उस सत स्थिती का
जहाँ कोई भी किसी को देखता नही
और न ही कुछभी किसीके द्वारा
देखा या किया जा रहा हो.....

जो भी है बस होता हुआ है
आनंद वहाँ नही जहाँ कुछ हो गया
बन गया.. दिख गया हो
जीवंत वर्तमान ही है आनंद
सत-चित-आनंद
जहाँ न कोई काया है न माया
न धूप है न छाया
है केवल सूर्यवत प्रकाश ही प्रकाश
-अरुण
चित्तावस्थाएँ
***********
गहरी नींद होती..
होता तभी विशुद्ध मस्तिष्क
न चलता स्व का खेल.. न होता चित्त अस्वस्थ
न सपने बोलते हैं और न ही उभरते हैं विचार
शरीर विश्रांत होनेसे... हो न पाए मन-संचार

गहरी नींद टूटे.......
चित्त चलता जागरण की ओर
स्व फिर जागता है स्वप्न, चिंतन का मचे है शोर
तन तो जागता पर ...
मनस्वरूपी नींद घुस आती
तन में जागृति निखरे.. जो मन में है धुमिल होती

धुमिलता चित्त की ही आदमी को अधजगा रखे
हमेशा........जागरण की पूर्णता को अधसधा रखे
समाधी की अवस्था... जागरण की पूर्णता का रूप
जहाँपर नींद भी गहरी.. घनी हो जागरण की धूप
-अरुण
ईश्वर क्यों चाहिए ?
***************
बिना साफ साफ देखेसमझे
सच को सच कहना... गलत होगा
झूठ को झूठ मान लेना भी गलत होगा

कहने के लिए तो आदमी हमेशा
अच्छी बातें ही कहता रहता है....
क्योंकि यही सिखाया जाता है

ईश्वर या सत्य के बाबत
वह कहता है....
ईश्वर सर्वत्र है... क्षण क्षण में है, कण कण में है
फिर, उसे वह अपने दुश्मनों में क्यों नही देखता?
परधर्म को माननेवालों में क्यों नही देखता?
क्यों नही परदेसीयों में उसे वह दिखाई देता?

जहाँपर उसे.. ईश्वर है ऐसा लगे..
उसी के सामने वह हाँथ जोड़ता है
क्योंकि
उसे तो ईश्वर चाहिए सिर्फ हाँथ जोड़ने के लिए
जरूरत पड़े तो अपने माने हुए ईश्वर के नाम पर
बखेड़ा खड़ा करने के लिए
संकट के समय
पुकारने के लिए.. बस
-अरुण
मन
*****
मानना....
कुछ भी मानना
या मान लेने की क्रिया..जहाँ से होती है...
मन... उसी को कहते होंगे शायद

मानी हुई बातों का
जोड-घट, उनकी उथल-पुथल, उनमें वाद-संवाद
उनका काल्पनीकरण.. निष्कर्षन जो करता है..
उसीको मन कहा जाता होगा शायद

इस मन से जो भी बातें
वास्तव बनकर हमारे बीच आकर बसती हैं
और हमारे जीवन कलापों का आधार बनती हैं
उन्हे ही ‘मानसिक’ कहा जाता होगा शायद
-अरुण

मौत किसी को नहीं जानना चाहती है
******************************
ये तो याद नहीं कि
मेरे जन्म के समय मुझे मिलनेवाली जिंदगी ने
मेरा नाम पता ठिकाना मकसद और मंजिल के बारे में
मुझसे पूछा था या नहीं?
परंतु यह तो मै साफ साफ देख पा रहा हूँ कि
सामने खड़ी मौत को
इस बात में कोई रूचि नहीं है
कि  मै कौन हूँ, किस जातपात,
देश सूबा से ताल्लुक रखता हूँ,
जिंदगी में मैंने क्या कमाया या खोया हैं...
उसे तो इस बात से भी कोई सरोकार नहीं कि
मै आदमी हूँ, या कोई और प्राणी या किसी जंगल में पला पेड़ पौधा
-अरुण

आकार-बोझ से रिक्त.. सदा ही मुक्त
******************************
पिंजड़े में तोता फड़फड़ाता है मुक्ति
के लिए....पिंजड़े को कुछ भी
पता नही होता


हाँ, अगर पिंजडे को होश आ जाए और...
वह तोते की बंधन-पीडा देख ले
तो शायद...
कोई सुध ले वह तोते के दर्द की
और यह सोचने के लिए विविश हो जाए कि

अगर पूरा का पूरा आकाश गुजर जाता है उससे होकर
फिर आकाश में उड़ सकनेवाला यह तोता क्यों नही?

उसका यह मूलभूत सवाल
सबके लिए ही प्रकाश बन सकता है
इस सबक़ के साथ कि

बंधन तो आकार को होता है
आकाश को नही
जिनका चित्त किसीभी आकार-बोझ से रिक्त हो
वे सदा ही मुक्त हैं
-अरुण




आकार-बोझ से रिक्त.. सदा ही मुक्त
******************************
पिंजड़े में तोता फड़फड़ाता है मुक्ति
के लिए....पिंजड़े को कुछ भी
पता नही होता

हाँ, अगर पिंजडे को होश आ जाए और...
वह तोते की बंधन-पीडा देख ले
तो शायद...
कोई सुध ले वह तोते के दर्द की
और यह सोचने के लिए विविश हो जाए कि

अगर पूरा का पूरा आकाश गुजर जाता है उससे होकर
फिर आकाश में उड़ सकनेवाला यह तोता क्यों नही?

उसका यह मूलभूत सवाल
सबके लिए ही प्रकाश बन सकता है
इस सबक़ के साथ कि

बंधन तो आकार को होता है
आकाश को नही
जिनका चित्त किसीभी आकार-बोझ से रिक्त हो
वे सदा ही मुक्त हैं
-अरुण

मुक्तक
*******
सपने ही जिन्हें सच्चे लगते हैं
उनसे कहते रहना कि
“आप सपने देख रहे हो.. सच्चाई नही”
किसी काम का नही

उनकी हाँ में हाँ मिलाते हुए.. उनके साथ रहते हुए
जो उपाय उन्हे नींद से पूरी तरह जगा देंगे
वही उपाय काम आएँगे

पूरी तरह जागकर ही कोई जान सकता है कि
वह सपने देख रहा था.... सच्चाई नही
-अरुण















































 




















 








No comments: