Wednesday, February 4, 2015

रुबाई

रुबाई
******
सागर में मछली है .........मछली में सागर है
पीढ़ी दर पीढ़ी का ........इकही मन-सागर है
सागर से मुक्त कहां ..मछली जो कुछ भी करे
जबतक वह गल न जाय बन न जाय सागर है
- अरुण

No comments: