Thursday, February 13, 2014

एक शेर -



आँखे गडा रहे हो चेहरे पे क्यों भला
चेहरा हवा हवा है आंखे धुवाँ धुवाँ
-अरुण

No comments: