Friday, February 7, 2014

आदमी और पल



आदमी को पल पल, पल बनकर जीना है
पर आदमी का हर पल, आदमी बन कर जीता है
-अरुण

No comments: