Wednesday, February 26, 2014

सच्चाई ! तुम छुपी हो कहाँ?



संमंदर की लहरों पे पसरा नजारा
नजर में वही सो न दिखती है धारा
नज़ारों के रिश्ते नज़ारों की दुनिया
छुपी जाए सच्चाई, बचता.. किनारा
-अरुण

No comments: