Monday, February 24, 2014

एक शेर-

शायद यही वजह है के परेशां है ये दिल
तुम्हे पाने से पहले तुम्हे पा चुका है दिल
- अरुण

No comments: