Thursday, February 20, 2014

एक शेर

पता दूसरों का मेरी डायरी में
मेरे घर का मुझको नहीं है पता

- अरुण

No comments: