Wednesday, September 22, 2010

संगठन – स्वार्थ का गठजोड़

संगठित होना जरूरी है

किसी के विरोध में या पक्ष में

कुछ हासिल करने को या

किसी से आजाद होने के लिए

परन्तु ऊपरी तौर पे

आदमी को आदमी से

जोडते दिखते ये बहाने

गहराई में,

स्वार्थ के गठजोड़ है

अलगाव के बहाने हैं

क्योंकि ये पक्ष-विपक्ष के रोगसे

मुक्त नही हैं

............................................. अरुण

No comments: