Thursday, July 17, 2014

कृष्ण और महावीर का एकरूपत्व



मुरलीमनोहर के नृत्य में बसा
शुद्ध आनंद जब महावीर के
अंतर में उपजा
तो महावीर के वस्त्रालंकरण
अनायास ही उतर गए
और महावीर अपनी...
निर्मोहयुक्त नग्न-अवस्था में पहुँच गए....
जब महावीर में उपजा निर्मोह
मुरलीधर के अन्तर में आंदोलित हुआ....
तो मुरलीमनोहर वस्त्रालंकार धारण कर
नाचते झूमते अपनी...
शुद्ध आनंद की अवस्था में लीन हो गए
-अरुण  

No comments: