Saturday, July 26, 2014

साहिर लुधियानवी साहब की अध्यात्मिक सोच



साहिर लुधियानवी साहब के फिल्मी गीतों में भी आध्यत्मिक आशय बसते हैं  
बानगी के लिए उनके एक गीत का यह मुखड़ा देखिये
‘जियो तो ऐसे जियो जैसे सब तुम्हारा हो’
(मतलब कोई आभाव न हो – वासनाएँ पूरी तरह तृप्त हों)
‘मरो तो ऐसे मरो जैसे तुम्हारा कुछ भी नही’
(फिर लौट आने की जरूरत क्या? जब पीछे कोई अतृप्ति छूटी ही न हो)
-अरुण

No comments: