Friday, September 13, 2013

दो तरह की दृष्टियाँ



सकल सृष्टि के सकलत्व से
खुद को देखना और अपने केंद्र से
सकल को देखना दो भिन्न बातें हैं
पहले ढंग से देखने वाला आदमी
अपनी भ्रांतियों से मुक्त हो जाता है और
दूसरे ढंग से देखनेवाला
अपनी भ्रांतियों से सकल को ओढ़कर
उसे देखता है
-अरुण  

No comments: