Thursday, January 8, 2015

रुबाई

रुबाई
*******
रोग हो तो दूर कर दे.... ऐसा डाक्टर है यहाँ
अडचनों को दूर कर दे....ऐसा चाकर है यहाँ
नासमझ इंसान है सो.. मनगढों का है शिकार
मानसिक भ्रमरूग्णता हैं....मनरचे मशवर यहाँ
- अरुण

No comments: