Tuesday, October 8, 2013

मन तो है प्रतिबिम्ब



मन तो है
जीवन का प्रतिबिम्ब
अहंकार है इसी प्रतिबिम्ब का एक
चलायमान केंद्र.
यही केंद्र मन को चलाता रहता है,
मन की इस गतिशीलता को ही मनुष्य
असली जीवन समझते हुए जीने की
भूल करता है
जो मन के परे जागा
वही जीवन से परिचित हो सका
- अरुण

No comments: