Sunday, December 12, 2010

शांति की बात, अशांति का माहोल

हिंदू जगत में शांति चाहता है

इस्लाम भी शांति का ही पक्षधर है

दूसरे तथाकथित धर्म भी शांति के लिए ही हैं

फिर भी एक दूसरे को सामने पाकर अशांत हैं

बात तो अयुद्ध की कर रहे है पर

जी रहे हैं युद्ध के माहोल में

........................................................ अरुण

No comments: