Friday, December 3, 2010

आशय एक, अभिव्यक्ति भिन्न

नींद ही नींद से करती बातें

जागनेवालों में होती नही चर्चा कोई

....

देखना बंद हुआ बोलना हुआ चालू

ये जहाँ बोलनेवालों से ही आबाद हुआ

.....

ये घना फैल चुका है लफ्जों का नगर

के समझ लफ्जों तले घुंटती मरी जाती है

.....

ख़ामोशी- भीड़ में रहती है अकेली न हुई

हर दो लफ्ज के दरमियान बसा करती है

.....

बोलने और सुनने वाले में न फर्क कोई

एक ही जहन निभाता, दो अलग किरदार

................................................... अरुण


No comments: