Tuesday, October 5, 2010

क्रियामयता ही समाधी

क्रिया बिना वाक्य अधूरा है

बाद में कर्ता को जानने में रूचि हो जाती है

किस पर हो रही है यह क्रिया

यह भी दर्शाया जाता है

आध्यात्मानुभूति में क्रिया ही क्रिया है

न कर्ता है और न ही कर्म

जिसे भ्रमवश चित्त कर्ता समझता है

वह भी क्रिया ही है

और चित्त जिसे कर्म रूप में देखता है

वह भी एक क्रिया ही है

क्रिया द्वारा क्रिया को क्रिया के रूप में देखना ही

समाधी है

.................................................. अरुण

No comments: