Thursday, October 7, 2010

घड़े में स्वयं भर गया हूँ

पूरा का पूरा

और जानना चाहता हूँ

कैसा होता है घड़े का रीतापन

शायद कभी भी न जान पाऊं

तबतक

जबतक स्वयं के होने का भ्रम

टूटता नही

पूरा का पूरा

.......................................अरुण

No comments: