Tuesday, October 12, 2010

सत्य पर शब्द चढ़ते नही

हवा को रंगने की कोशिश में

रंग दीवार पर चढ रहा है

हवा तो रंगीन होती नही

दीवार को ही- हवा

समझा जा रहा है

सत्य पर शब्द चढ़ते नही

पर शब्दों को ही गरिमा

प्राप्त हो गई है सत्य की

.................................. अरुण

2 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

वाह सत्य और ब्रम को कुछ अलग अंदाज में प्रस्तुत कर रही ये कविता ।

परमजीत सिँह बाली said...

बहुत सुन्दर व गहरी बात कह दी कम शब्दों मे। बधाई।