Saturday, October 2, 2010

ध्यान का जागरण

किसी भी चीज, बात, प्रसंग या तथ्य

को जानना मस्तिष्क की ज्ञान- प्रवृत्ति है

परन्तु मस्तिष्क क्यों जानना चाह रहा है

और जानने की क्रिया कैसे चल रही है

इसे समझते हुए जानना ध्यान का जागरण है

............................................ अरुण

No comments: