Saturday, December 7, 2013

विचार की दौड़ विचार से ऊपर उठने के लिए है



बुद्धि का अभियान है - तर्क के रास्ते पर विचारचक्र के माध्यम से दौड़ते हुए, रास्ते से ऊपर उठना
और अतर्क्य के आकाश में उड़ जाना. परन्तु होता यूँ है कि हम उम्रभर तर्क की सतहपर ही दौड़ते रह जाते है. तर्क जहाँ थम जाता है वहां भी फिर  तर्क का नया मार्ग रचते हुए कोलू के बैल की तरह उसी सतह पर चक्कर लगाते रह जाते है. हवाईपट्टीपर विमान दौड़ते हुए आकाश में प्रवेश कर जाता है. हमारा तर्कयान तो विचार-पथ पर दौड़ते हुए यह भूल जाता है की उसे विचार से ऊपर उठना है.
-अरुण     

No comments: