Friday, November 28, 2014

दो रुबाई आज के लिए

अज्ञान में पड़ा हूँ...इंसा को रंज जो है
करुणा तो फैलती है.. इंसा ही तंग जो है
सदियों से खोज जारी.. पर रौशनी न आये
चर्चा बहस.. फ़िज़ूल .. दरवाज़ा बंद जो है
***************************************
थोड़ा ही ज्ञान.. इतराते बहोत
रस तो नदारद.. चबाते बहोत
न सोता, न नदिया, न दरिया ही देखा
मगर पार जाने की बातें बहोत
***************************************
- अरुण


No comments: