Monday, November 10, 2014

समय है.. एक का एक...eternal ..... सनातन

समय है ...अविरत एक का एक..eternal....सनातन ...
*************************************************
जहाँपर.. कालनिद्रस्थ आदमी का .....'भूत' (past)
सर उठाता है....उसके 'भूत' को लगता है वह है  ...'वर्तमान' ।
जब 'भूत'.. स्वयं में झाँकता है.. उसे लगता है .. वह है...'अतीत' ।
जब 'भूत' स्वयं में बदलाव  देखता है.. तब उसे  वह ..'भविष्य' जैसा लगता है ।

केवल कालजागृत के लिए ही समय है ..अविरत एक का एक...eternal, सनातन-वर्तमान
- अरुण

No comments: