Saturday, November 16, 2013

जीवन प्रतिजीवन

मै हँू और इसीलिए यह जगत है,
मुझमें जगत और जगत में मैं हूँ,
दोनों का होना ही एक का होना है।
ऐसे होने का अनुभव ही जीवन है,
बाकी सब है- प्रतिजीवन
- अरुण

No comments: