Monday, November 18, 2013

गीता-बोध युद्ध-भूमि पर ही क्यों ?



बैर को युद्ध भूमि में ही स्पष्टता से उजागर कर
दिखलाया जा सकता है, क्योंकि वह वहाँपर
पूरीतरह उघाड़ा एवं ऊर्जापूर्ण होता है ।
गीताकार को यह बात शायद पता हो
- अरुण

No comments: