Saturday, August 9, 2014

जानना, मानना और जागना



जान जानने के काम आती है, मन मानने के और ध्यान काम आता है जागने के.
-----------------
जो जागा हुआ है, वह है जागा.... दोनों पर- एक ही साथ और एक ही वक्त. ‘
जानने’ और ‘मानने’ दोनों पर उसका ध्यान होने के कारण वह कभी भी confused (संभ्रमित) नही रहता.
-------
Unconfused या स्पष्ट चित्त ही ध्यानस्थ भी है और प्रेमस्थ भी
-अरुण         

No comments: