Thursday, May 3, 2012

जिंदगी जीना भूल गये हैं


जिंदगी जीना भूल गये हैं
जिंदगी के बाबत बने सिद्धांतों को ही जी रहे है
.....अब कोई कहे कि कुछ न करो
सिर्फ अंदर-बाहर से निहारते रहो
इस जिन्दा जिंदगी को,

दूसरों से सीखी बातों में न भटको,
अपनी ही पल पल की सच्चाई पर ठहरकर
जानो इस जिन्दा जिंदगी को
... तो बात मुश्किल लगती है

क्योंकि हमारी रूचि जिंदगी जीने में नही
किसी सिखाई बातों में ही उलझ जाने में है
प्यास को जानने में नही
पानी को समझने में है
-अरुण  

No comments: