Friday, December 12, 2014

दो रुबाई आज के लिए

दो रुबाई आज के लिए
***********************
फलसफों में बहकना बेकार है
मज़हबी हर सूचना बेकार है
जिंदगी को ज़िंदा रहकर देखिए
उसके बाबत सोचना बेकार है
*************************************
पेड़ है... नीचे परछाई है
समझती.. खुदही उभर आई है
सोचे...पेड़ के बग़ैर भी वह ज़िंदा रहे
सोच ऐसी ही....... इंसा में भी बन आई है
**********************************
- अरुण

No comments: