Wednesday, December 24, 2014

रुबाई

रुबाई
******
ख़्वाबों के दीप भीतर इक रौशनीसी फैले
इस रौशनी में चलते दुनिया के सारे खेले
करवट बदलती भीतर जबभी कभी हक़ीक़त
कपती है रौशनी....उठते हैं जलजले
- अरुण

No comments: