Thursday, December 18, 2014

रुबाई

रुबाई
************
माया नही है दुनिया...... मिथ्या नही जगत
मिथ्या है मन की खिड़की भ्रमराए जो जगत
तनमन को जोड़कर जो देखे असीम  आलम
उसकी खरी है दुनिया उसका खरा जगत
- अरुण

No comments: