Tuesday, December 23, 2014

रुबाई

रुबाई
******
वक़्त जो बनाये इंसा की मुराद
मुराद बने बिगड़े करे बरबाद
वक़्त ही है इंसा का दुश्मन
ज़हन इंसा का करे जिसका इजाद
- अरुण

No comments: