Friday, December 5, 2014

दो रुबाई आज के लिए

दिल बना ख़तरों का अरमान ही
ताक़त से भर आये... क़ुर्बान ही
न किनारा न सहारा न मंज़िल कोई
काम आये उसके..मयन तूफ़ान ही

मयन = तत्क्षण
*****************************************
लिए चाहत उजाले की संवरता है अंधेरा
पता किसको कहाँ से लौट आएगा सवेरा ?
प्रतिक्षा है ये तीखी रात बीते बात बीते
जला आख़िर अंधेरा ही जगा सच्चा सवेरा
*******************************************
- अरुण

No comments: