Friday, December 19, 2014

धर्मांतरण

धर्मांतरण
************
धरम की होड में रहकर इंसा बौराया है
माने कि धरम भी उसकी कुई  माया है
धरम की गोद में...मगर उसको ही बेच रहा
है कैसी तिजारत ये.......कैसा सरमाया है?
अरुण

No comments: