Thursday, December 25, 2014

रुबाई

रुबाई
********
पहुँचने में लगे गर वक़्त तो मुश्किल
समझने में लगे गर वक़्त तो  मुश्किल
जो पल में पहुँच जाता... समझ जाता है
समझ उसकी* बड़ी अद्भुत निराली, पहुँचना मुश्किल
अरुण
उसकी = दिव्य दृष्टि वाला
**********************************************

No comments: