Tuesday, June 29, 2010

परिभाषा की परिसीमा

परिभाषाएं कितनी भी सटीक क्यों न हों

हमेशा अधूरी हैं

कामचलाऊ हो सकती हैं

पर आशय के पूर्णत्व को छू नहीं सकती

ठीक वैसे ही

जैसे वस्तु की छाया वस्तु को

पकड़ नहीं सकती

................................................ अरुण

1 comment: