Saturday, November 6, 2010

यात्रा नही केवल यातायात

जीवन की यात्रा अजीब है

यहाँ आदमी अपनी ही जगह खड़ा है

और रास्ता पीछे की तरफ ढल रहा है

आदमी को लगता है कि

उसने एक लंबी दूरी पार कर ली

हिसाब बताता है कि कदम अभी

वहीं के वहीँ खड़े है

यह यात्रा नही केवल

यातायात है

........................... अरुण

1 comment:

M VERMA said...

शायद छद्म प्रगति भी इसी श्रेणी में आता है