Sunday, November 14, 2010

एक शेर

अपनी ही हर खुशी से परेशां हैं सारे लोग

किसको खुशी कहें , हर दिल में हो तलाश

.................................................. अरुण


No comments: