Monday, November 15, 2010

एक शेर

अँधेरा काट लेगा, डर है ?- न भागो यारों

इसी जगह पे छुपा है, रौशनी का चिराग

................................................. अरुण

No comments: