Sunday, August 1, 2010

नंगा भूले नंगपन

माया में लिपटे हुए

सत् तो जात बिसार

नंगा भूले नंगपन

सोचत वस्त्र हजार

.......................... अरुण

No comments: