Monday, August 2, 2010

धीरे धीरे कुछ नही ...

धीरे धीरे कुछ नही

यहाँ अचानक जाग

या तो मन में चेतना

या तो नींद खराब

----------

शब्दों को नही अर्थ कछु

जो जोड़ा वह अर्थ

शब्द, भाव संकेतमय

ध्वनि केवल, सब व्यर्थ

----------

एक सकल को बूझता

मुख से कहता राम

दुजा बैठ मंदिर जपे

राम राम श्रीराम

......................................... अरुण

No comments: