Thursday, July 29, 2010

साँस है जीवन, मन है मृत्यु

साँस पर जागा चित्त

न खोता है आस में और

न इतिहास में

साँस पर सोया चित्त

बह जाता है

मन की भड़ास में

............................... अरुण

No comments: