Friday, July 30, 2010

मूर्ख दो प्रकार के

मूर्ख दो प्रकार के

एक वे जो सयानेपन के

अभाव में मूर्ख हैं

दूसरे वे जो सयानेपन के

भाव में मूर्ख हैं

.................................. अरुण

1 comment:

honesty project democracy said...

और जड़ भी दो प्रकार के होते है
एक वह जो नितांत अभाव में जीवन गुजार रहा हो
दूसरा वो जो भ्रष्टाचार की गंगा में रोज डुबकी लगा रहा हो
और उसे कोई भी कुछ कहने वाला ना हो ..
जैसे शरद पवार ...अच्छी प्रस्तुती सार्थक विचार ..