Sunday, April 29, 2012

जान और जानना


जान और जानना
ये दोनों ही शब्द
एक दूसरे के करीब दिखते तो हैं
पर एक दुसरे के विरोध में खड़े हैं
सत्य अस्तित्व की जान है
परन्तु सत्य को जानने वाले
अस्तित्व को जी नही पाते
अस्तित्व को तन मन और ह्रदय की
समग्रता से जीनेवाले,
जरूरी नही कि
अस्तित्व के सत्य को जानते ही हों
-अरुण

No comments: