Monday, April 30, 2012

दोहरा आचरण


आदमी में समझ भी है
और समझ से भागने की प्रवृत्ति भी,
बैसे ही उसे अपनी मूर्खता का तो
परिचय है पर वह इसकी जिम्मेदारी
बाहरी तत्वों पर थोपने की
प्रवृत्ति का भी शिकार है.
जबतक आदमी में अपने
स्वतंत्र अस्तित्व के होने का
मोह बरक़रार है
आदमी के इस दोहरे आचरण का
कोई इलाज नही
- अरुण     

No comments: